भारत में कुल कितने राज्य हैं

 

 इस लेख में

 1  भारत एक परिचय 

 2. राज्यों के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य

 3 राज्य राजधानी गठन वर्ष और भाषाएं 

 4.  केंद्र शासित प्रदेश

 5. केंद्र शासित प्रदेशों के महत्वपूर्ण तथ्य 

 6. राज्य निर्माण का इतिहास

 7. भाषा के आधार पर राज्यों का निर्माण 

  8.      F.A.Q.

भारत एक परिचय 

 

भारत एक विशाल देश है, क्षेत्रफल के आधार पर विश्व का सातवां सबसे बड़ा देश जब की जनसंख्या के आधार पर यह विश्व का दूसरा सबसे बड़ा देश है |

                      भारत देश की विशाल सीमा हिमालय से लेकर दक्षिण में हिंद महासागर तक, और पूर्व में गारो जयंती पहाड़ियों से लेकर पश्चिम में अरब सागर तक फैली हुई है |

                     भारत के सभी राज्य विविधता में एकता के उदाहरण है, सभी राज्यों में भाषा, खान पान ,रहन सहन ,भौगोलिक परिस्थितियां आदि में पर्याप्त भिन्नता है |

इन विभिन्ताओं के बावजूद राजनीतिक शक्ति के रूप में संपूर्ण देश एक सूत्र में बंधा हुआ है, और उन्नति के पथ पर अग्रसर है !

इस लेख में हम भारत के राजनीतिक विभाजन, अर्थात राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के बारे में जानेंगे |

                     राज्यों की स्थापना और महत्व को इस तथ्य से समझा जा सकता है कि, संविधान की शुरुआत में ही भाग l के अनुच्छेद 1 से 4  तक राज्य और संघ क्षेत्रों के बारे में संवैधानिक प्रावधान किया गया है |

                     संविधान के भाग 1 में संघ के नाम और राज्य क्षेत्र नए राज्य के स्थापना निर्माण और वर्तमान राज्यों के क्षेत्र सीमाओं या नामों के परिवर्तन के संबंध में प्रावधान किया गया है | और यह अधिकार संसद को है, और इसी अधिकार के तहत संसद  नए राज्यों का निर्माण या नाम में परिवर्तन करती है |

भारत में राज्यों के गठन की कहानी बड़ी दिलचस्प है इस गठन की कहानी से पहले आज की वर्तमान राजनीतिक स्थितियों के बारे में जान लेते हैं कि भारत में कुल कितने राज्य हैं वर्ष 2022 |

भारत में राज्यों की संख्या  

 2 जून 2014 को तेलंगाना राज्य के गठन के बाद भारत में राज्यों की संख्या 29 हो गई थी, वहीं केंद्र शासित प्रदेशों की संख्या 7 थी |

       अगस्त 2019 में केंद्र सरकार ने जम्मू कश्मीर राज्य का पुनर्गठन करके उसे 2 केंद्र शासित प्रदेशों में बांट दिया जम्मू कश्मीर और लद्दाख |

           इस प्रकार अब राज्यों की संख्या 29 से घटकर 28 हो गई, और केंद्र शासित प्रदेशों की संख्या 8 हो गई, यहां यह प्रश्न भी महत्वपूर्ण है कि, जब पहले केंद्र शासित प्रदेश 7 थे, तो जम्मू कश्मीर और लद्दाख के गठन के बाद इनकी  संख्या 9 होनी चाहिए, परंतु यह 8 है, तो ऐसा इसलिए है कि पहले “दादर व नगर हवेली” और “दमन दीप” 2 केंद्र शासित प्रदेश थे, जिन्हें एक केंद्र शासित प्रदेश जनवरी 2020 मे  बना दिया गया है |

         इस प्रकार वर्तमान में भारत में कुल 28 राज्य और 8 केंद्र शासित प्रदेश है !

जानिए, अधिवर्ष क्या है ? ( LEAP YEAR )

    राज्यों के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

    भारतीय राज्यों के बारे में कुछ दिलचस्प और महत्वपूर्ण तथ्य |

*    जनसंख्या के आधार पर सबसे बड़ा राज्य उत्तर प्रदेश है और सबसे छोटा सिक्किम है |

*    क्षेत्रफल के आधार पर सबसे बड़ा राज्य राजस्थान है वही सबसे छोटा प्रदेश गोवा है |  

 *    सर्वाधिक जनसंख्या घनत्व वाला राज्य बिहार है वही न्यूनतम जनसंख्या घनत्व वाला राज्य अरुणाचल प्रदेश |

 *     सबसे पूर्व में स्थित राज्य अरुणाचल प्रदेश है जबकि सबसे पश्चिम में स्थित स्थित राज्य गुजरात है |

 *    सबसे उत्तर में स्थित राज्य जम्मू कश्मीर है वही सबसे दक्षिण में स्थित राज्य केरल व तमिलनाडु है |

 *     स्वतंत्रता के बाद सबसे पहले गठित होने वाला राज्य आंध्रप्रदेश था ! सबसे नवीनतम राज्य तेलंगाना है |

 *     सर्वाधिक लिंगानुपात वाला राज्य केरल है, वही न्यूनतम लिंगानुपात वाला राज्य हरियाणा है |

 *      सर्वाधिक साक्षरता वाला राज्य केरल है, जबकि न्यूनतम साक्षरता वाला राज्य बिहार है |

 *      सर्वाधिक लंबी समुद्री तटरेखा वाला राज्य गुजरात है, और न्यूनतम तटरेखा वाला राज्य गोवा है |

वर्तमान राज्य उनकी राजधानी गठन वर्ष और प्रमुख भाषाएं 

क्रमांक 

राज्य का नाम 

राजधानी 

गठन वर्ष

प्रमुख भाषा

1

आंध्र प्रदेश अमरावती  1953 तेलुगु, उर्दू 

2

असम दिसपुर 1956

असमी, बांग्ला

3

बिहार पटना 1956 हिंदी
4 गुजरात गांधीनगर  1961

गुजराती

5

हरियाणा चंडीगढ़ 1966 हिंदी

6

हिमाचल प्रदेश शिमला 1971

हिंदी, पहाड़ी

7

त्रिपुरा अगरतला 1975

बांग्ला मणिपुरी

8

कर्नाटक बेंगलुरु 1956

कन्नड़

9 केरल तिरुअनंतपुरम 1956

मलयालम

10

मध्य प्रदेश भोपाल 1956

हिंदी

11

महाराष्ट्र मुंबई 1956

मराठी

12

मणिपुर इंफाल 1975

मणिपुरी

13

मेघालय शिलांग 1971

खासी जयंतिया  गारो

14

नागालैंड कोहिमा 1962

असमी, नागा अंग्रेजी 

15

उड़ीसा भुनेश्वर 1956

ओड़िया

16

पंजाब चंडीगढ़ 1956

पंजाबी

17

राजस्थान जयपुर 1956 हिंदी राजस्थानी

18

पश्चिम बंगाल कोलकाता 1956

बांग्ला

19

तमिल नाडु चेन्नई 1956

तमिल

20 उत्तर प्रदेश लखनऊ 1956

हिंदी और उर्दू

21

सिक्किम गंगतोक 1975

लेपचा भुटिया 

22

मिजोरम आइजोल  1986 मिजो अंग्रेजी 
23 अरुणाचल प्रदेश ईटानगर 1986

गुनाया आकामाझी 

24

गोवा पणजी  1987 कोंकणी पुर्तगाली 
25 छत्तीसगढ़ रायपुर 2000

हिंदी छत्तीसगढ़ी 

26

उत्तरांचल देहरादून  2000 हिंदी पहाड़ी 
27 झारखंड रांची 2000

हिंदी संथाली

28 तेलंगाना हैदराबाद  2014

तेलुगू 

 

यहां यह तथ्य उल्लेखनीय है कि, जब आंध्र प्रदेश का निर्माण हुआ था तब उसकी राजधानी हैदराबाद थी,  तेलंगाना से अलग होने के बाद वर्तमान आंध्र प्रदेश की  राजधानी अमरावती है |  वहीं तेलंगाना राज्य की राजधानी हैदराबाद है | उपरोक्त तालिका में वर्तमान राजधानियों का विवरण है | वर्तमान मे 2024 तक तेलंगाना और आंध्रा प्रदेश की राजधानी हैदराबाद ही है |

केंद्र शासित प्रदेश

यह प्रश्न महत्वपूर्ण है कि केंद्र शासित प्रदेश क्या है, और यह राज्यों से कैसे भिन्न है, तो निम्न बिंदुओं के आधार पर इस अंतर को समझा जा सकता है |

i) भौगोलिक रूप से राज्य  का क्षेत्रफल केंद्र शासित प्रदेशों से बड़ा होता है, परंतु इसके भी दो अपवाद है, अंडमान निकोबार और गोवा |

ii)  केंद्र शासित प्रदेशों में प्रशासनिक व्यवस्था का प्रमुख राष्ट्रपति होता है, और उसके अधीन उपराज्यपाल या प्रशासक केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन का संचालन करते हैं |

iii) राज्यों की विधानसभा (विधायिका ) कानून निर्माण का कार्य करती है,जो राज्यों में लागू होते हैं ! वहीं केंद्र शासित प्रदेशों में संसद द्वारा पारित कानून लागू होते हैं ,और स्थानीय स्तर पर समिति द्वारा प्रशासनिक व्यवस्था का संचालन होता है |

केंद्र शासित प्रदेशों के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य 

 I).   क्षेत्रफल के आधार पर सबसे बड़ा केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख है, और सबसे छोटा लक्ष्यदीप |

.ii)  जनसंख्या के आधार पर सबसे बड़ा केंद्र शासित प्रदेश दिल्ली, और सबसे छोटा लक्ष्यदीप है |

.iii)चंडीगढ़ एकमात्र केंद्र शासित प्रदेश है, जो दो राज्यों की राजधानी है  (पंजाब और हरियाणा ) |

.iv) सबसे नए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर और लद्दाख हैं |

.v) केंद्र शासित प्रदेशों में मात्र दिल्ली के पास ही विधानसभा है |

 

क्रमांक 

केंद्र शासित प्रदेश  राजधानी स्थापना वर्ष

भाषाएं

1

अंडमान निकोबार दीप समूह पोर्ट ब्लेयर  1956 हिंदी अंग्रेजी 

2

चंडीगढ़ चंडीगढ़  1966 हिंदी अंग्रेजी 

3

दमन दीव, दादर नगर हवेली  दमन  2020

हिंदी गुजराती कोंकणी 

4 दिल्ली दिल्ली 1956

हिंदी अंग्रेजी 

5

लक्ष्यदीप कवारत्ती 1956 अंग्रेजी 
6 पुदुचेरी  पांडिचेरी 1956

तमिल 

7

जम्मू और कश्मीर जम्मू और श्रीनगर  2019

हिंदी उर्दू 

8 लद्दाख  लेह 2019

हिंदी डोंगरी 

“दादर नगर हवेली” केंद्र शासित प्रदेश की स्थापना 1961 में की गई थी और “दमन दीप” की स्थापना 1987 में हुई थी ! और 26  जनवरी 2020 को  इन दोनों को मिलाकर एक केंद्र शासित प्रदेश बना |

 

भारत में राज्य निर्माण का इतिहास 

भारत की स्वतंत्रता सुनिश्चित होने के बाद 12 मई 1946 को देसी रियासतों पर ब्रिटिश सरकार द्वारा एक श्वेत पत्र प्रकाशित करके यह घोषणा की गई कि, देशी रियासतों पर से सम्राट की सर्वोच्च शक्ति को समाप्त किया जाता है, अर्थात वे ब्रिटिश शासन के अधीन ना होकर स्वतंत्र हो जाएंगे |

इसके बाद 1947 में स्वतंत्रता अधिनियम में भी प्रावधान किया गया था कि, सम्राट तथा देशी रियासतों के मध्य हुए समझौते इस अधिनियम के लागू होने पर स्वत निरस्त हो जाएंगे इस प्रकार ब्रिटिश सरकार ने पूर्णरूपेण इस व्यवस्था को अमलीजामा पहनाने का प्रयास किया, जिसमें भारत कई टुकड़ों में विभाजित हो जाए, लेकिन सरदार  बल्लभ भाई पटेल की सूझबूझ तथा लॉर्ड माउंटबेटन की सहायता से ब्रिटिश सरकार की इस कूटनीति को सफल नहीं होने दिया गया |

                             स्वतंत्रता प्राप्ति के समय भारत में कुल 542 देशी रियासतें थी, जिनमें से 539 रियासतों ने भारत में स्वेच्छा से विलय  करना स्वीकार कर लिया,शेष तीन रियासतें  जूनागढ़, हैदराबाद, और जम्मू कश्मीर, को भारत में विलय करने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ा |

                जूनागढ़ रियासत को जनमत संग्रह के आधार पर भारत में मिलाया गया, जबकि उसका मुस्लिम शासक

पाकिस्तान भाग गया, हैदराबाद रियासत को पुलिस और सेना की  कार्रवाई के बाद भारत में मिलाया गया, वहीं जम्मू कश्मीर राज्य पर पाकिस्तानी कबायलीओं के हमले के बाद हिंदू शासक हरि सिंह द्वारा विलय पत्र पर हस्ताक्षर करके उसे भारत में मिलाया गया |

ब्रिटिश प्रांतों व देशी रियासतों का एकीकरण करके भारत में चार प्रकार के राज्यों का गठन किया गया जो निम्न प्रकार थे |

ए श्रेणी के राज्य –:

 216 देसी रियासतों को ब्रिटिश भारत के पड़ोसी प्रांतों में मिलाकर यह राज्य का गठन किया गया ! यह राज्य थे असम, बिहार मुंबई, मध्य प्रदेश, मद्रास, उड़ीसा, पंजाब, संयुक्त प्रांत, पश्चिम बंगाल ,आंध्रप्रदेश, इनकी कुल संख्या 10 थी |

 बी श्रेणी के राज्य –:

   275 देसी रियासतों को नई प्रशासनिक इकाई में गठित करके B  राज्य की श्रेणी प्रदान की गई, यह राज्य थे हैदराबाद, जम्मू कश्मीर, मध्य भारत, मैसूर, पेप्सू,राजस्थान, सौराष्ट्र, travancore,-cochin, इनकी संख्या 8 थी |

 सी श्रेणी के राज्य –:

 61 देसी रियासतों को एकीकृत करके सी श्रेणी के राज्य  बनाया गया  कुछ प्रमुख राज्य निम्न थे अजमेर, बिलासपुर, भोपाल, कुर्ग, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, कच्छ,मणिपुर, त्रिपुरा और विंध्य प्रदेश इनकी संख्या 9 थी |

(D) ड़ी श्रेणी के राज्य 

अंडमान और निकोबार दीप समूह को इस श्रेणी के अंतर्गत रखा गया था |

भाषा के आधार पर राज्यों का निर्माण 

ब्रिटिश शासन के दौरान ही भाषाई आधार पर राज्यों के गठन की मांग की गई ! वर्ष 1912 में भाषाई आधार पर तीन राज्य बिहार, उड़ीसा और असम का गठन हुआ |

इसके बाद भाषाई आधार पर तेलुगु राज्य की स्थापना की मांग की गई 1918 में मोंटेग्यू चेम्सफोर्ड सुधार के अंतर्गत भाषाई आधार पर राज्यों के गठन के संबंध में विचार करके इसके औचित्य को मान्यता दी गई,

वर्ष  1930 में गठित भारतीय कानून आयोग ने बांटो और राज करो की नीति काअनुसरण करते हुए जाति, धर्म, भाषा,आर्थिक तथा भौगोलिक समानता के आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की सिफारिश की, इससिफारिश के आधार पर ही 1936 में सिंध प्रांत का गठन हुआ था |

            स्वतंत्रता के बाद भी राज्यों के गठन को लेकर विचार पुनर्विचार और आयोगों का दौर चलता रहा शुरुआत में उस समय देश की सबसे बड़ी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस के कुछ नेताओं ने भाषाई आधार पर राज्यों के गठन की मांग को अस्वीकार कर दिया |

            कांग्रेस की  जे बी पी समिति द्वारा भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्निर्माण की मांग को अस्वीकार कर देने के बाद, मद्रास राज्य में रहने वाले तेलुगू भाषीयो द्वारा आंदोलन प्रारंभ कर दिया गया, इस आंदोलन का नेतृत्व करने वाले पोट्टी श्रीरामलू आमरण अनशन पर बैठ गए, और 56 दिन के लगातार आमरण अनशन के बाद 15 दिसंबर 1952 को उनकी मृत्यु हो गई |

इस मृत्यु ने आंदोलन में घी का काम किया, और यह आंदोलन और तीव्र हो गया फल स्वरूप  प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने तेलुगु भाषियों के लिए एक अलग राज्य आंध्र प्रदेश के गठन की घोषणा कर दी ! और 1 अक्टूबर 1953 को आंध्र प्रदेश राज्य अस्तित्व में आ गया और यहीं से भाषाई आधार पर राज्यों के पुनर्गठन की परंपरा की शुरुआत हो गई |

   राज्य पुनर्गठन आयोग

 आंध्र प्रदेश राज्य का भाषाई आधार पर गठन होने के बाद, भारत के अन्य भागों से भी राज्यों के पुनर्गठन की मांग उठने लगी, इसकी पूर्ति के लिए केंद्र सरकार द्वारा दिसंबर 1953 में राज्य पुनर्गठन  आयोग की नियुक्ति की गई ! इस आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति फजल अली थे और अन्य सदस्य के एम पनीकर तथा हृदयनाथ कुंदूरु थे ! दिसंबर 1955 में  आयोग ने अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार को दे दी |

इस आयोग की सिफारिश के आधार पर ही राज्य पुनर्गठन अधिनियम 1956 संसद में पारित किया गया ! और 14 राज्यों (आंध्र प्रदेश असम मुंबई बिहार जम्मू कश्मीर केरल मध्य प्रदेश मद्रास मैसूर उड़ीसा उत्तर प्रदेश पंजाब राजस्थान तथा पश्चिम बंगाल) तथा 5 संघ शासित  क्षेत्रों (दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर ,त्रिपुरा ,अंडमान निकोबार दीप समूह लक्ष्यदीप ,) का निर्माण किया गया |

राज्य पुनर्गठन आयोग की सिफारिशों के आधार पर राज्यों का निर्माण भाषाई आधार पर हुआ जो स्वतंत्रता के बाद राज्यों के पुनर्गठन की सबसे बड़ी प्रक्रिया थी ! इसके बाद भी समय-समय पर नए राज्यों का निर्माण भारतीय संसद द्वारा किया जाता रहा है |

                                          F.A.Q.

                        Q-1   वर्तमान में भारत में राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की कुल संख्या कितनी है (2022)?

                                 Ans-वर्तमान में देश में राज्यों की कुल संख्या 28 और केंद्र शासित प्रदेशों की संख्या 8 है 

                        Q-2   क्षेत्रफल के आधार पर देश का सबसे बड़ा राज्य कौन सा है ?

                                      Ans-  राजस्थान 

                       Q-3   जनसंख्या के आधार पर देश का सबसे बड़ा राज्य कौन सा है ?

                                   Ans- उत्तर प्रदेश 

                       Q-4   भारत का सबसे नवीनतम गठित राज्य कौन सा है ?

                                   Ans- तेलंगाना (2014 )

                       Q-5  क्षेत्रफल के आधार पर देश का सबसे छोटा राज्य कौन सा है ?

                                  Ans-   गोवा

                       Q-6 जनसंख्या के आधार पर देश का सबसे छोटा राज्य कौन सा है ?

                           Ans- सिक्किम

                        Q-7 सबसे नवीनतम राज्य तेलंगाना का गठन कब हुआ ?

                              Ans-2 जून 2014

                       Q-8 संविधान के किस भाग में राज्यों के नाम और सीमा क्षेत्र का वर्णन है ?

                          Ans- संविधान के भाग 1 में साथ ही अनुसूची 1 में भी इनका वर्णन है

                       Q-9 संविधान के किस अनुच्छेद में राज्यों के नाम और सीमा क्षेत्र का वर्णन है ? 

                           Ans-अनुच्छेद 1 से 4 तक 

                       Q-10 भाषाई आधार पर गठित होने वाला सबसे पहला राज्य कौन सा है ?

                           Ans-आंध्र प्रदेश 

                       Q-11  एकमात्र केंद्र शासित प्रदेश जिसकी अपनी विधानसभा है ?

                           Ans-दिल्ली

                       Q-12  क्षेत्रफल और जनसंख्या के आधार पर सबसे छोटा केंद्र शासित क्षेत्र है ?

                           Ans-लक्ष्यदीप 

                       Q-13 स्वतंत्रता के समय कुल कितनी देशी रियासतों का विलय किया गया था?

                            Ans- 542

                      Q-14 कितनी रियासतों ने स्वेच्छा  से भारतीय संघ में अपना विलय किया ?

                        Ans-539

                      Q-15 किस देसी रियासत को पुलिस और सैनिक कार्रवाई द्वारा भारतीय संघ में मिलाया गया ?

                           Ans-हैदराबाद 

                      Q-16 किस देशी रियासत को जनमत संग्रह द्वारा भारतीय संघ में मिलाया गया ?

                           Ans-जूनागढ़ 

                     Q-17 1953 में गठित राज्य पुनर्गठन आयोग के अध्यक्ष कौन थे ?

                         Ans-फजल अली

                     Q-18 भारत में सबसे पहले सूर्योदय किस प्रदेश में होता है ?

                        Ans- अरुणाचल प्रदेश 

                    Q-19 भारत में सबसे लंबी समुद्रीय तट रेखा किस राज्य की है ?

                         Ans-गुजरात 

                    Q-20राज्य पुनर्गठन आयोग के सुझाव पर (1956) कितने राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों का गठन हुआ? 

                         Ans-14 राज्य और 5 केंद्र शासित प्रदेश |

Leave a Comment