सुंदरबन डेल्टा । सुंदरबन डेल्टा स्थिति ,नदियां, क्षेत्रफल,आकार, आर्थिक महत्व।

 

इस लेख मे |

सुंदरवन डेल्टा कहां स्थित है/स्थिति

सुंदरवन डेल्टा का आकार

सुंदरवन डेल्टा की प्रमुख नदियां

सुंदरवन डेल्टा की विशेषताएं 

सुंदरबन डेल्टा में जैव विविधता

सुंदरबन डेल्टा का क्षेत्रफल/ फैलाव

सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान और विश्व धरोहर

सुंदरबन डेल्टा का आर्थिक महत्व

जब नदियां समुद्र से मिलती है तो उनका वेग बहुत कम हो जाता है और नदिया अपने साथ बहाकर लाये गए कंकड़ पत्थर मिट्टी को समुद्र तट पर जमा करती जाती है, जिससे एक विशिष्ट भूभाग का निर्माण होता है, उसे ही डेल्टा कहा जाता है ।
विश्व की लगभग सभी बडी नदियां डेल्टा का निर्माण करती है | विश्व में नदियो द्वारा निर्मित सारे डेल्टा कि यदि तुलना करें तो गंगा और ब्रम्हपुत्र द्वारा निर्मित सुंदरवन डेल्टा विश्व का सबसे बड़ा नदी डेल्टा है।

सुंदरवन डेल्टा कहां स्थित है/स्थिति :-

सुंदरवन डेल्टा भारत के पूर्वी भाग में स्थित राज्य पश्चिम बंगाल के दक्षिणी भाग में स्थित है। यह बंगाल की खाड़ी से मिलता है ।
भौगोलिक दृष्टि से भारतीय उपमहाद्वीप के पूर्वी भाग में भारत और बांग्लादेश में डेल्टा फैला हुआ है ।इस स्थान पर गंगा और ब्रम्हपुत्र नदियां बंगाल की खाड़ी में गिरती है।

सुंदरवन डेल्टा का आकार :-

सुंदरवन डेल्टा चतुर्भुज आकार में भारत और बांग्लादेश के मध्य स्थित है। इस डेल्टा में छोटे बड़े कई द्वीप है जो अपना आकार बदलते रहते हैं। भारतीय क्षेत्र में इस डेल्टा का फैलाव बंगाल की खाड़ी में दक्षिण की ओर अधिक है। बांग्लादेश में मुख्य भूमि से उत्तर की ओर इस डेल्टा का फैलाव भारतीय क्षेत्र की अपेक्षा अधिक है।

सुंदरवन डेल्टा की प्रमुख नदियां :-

वैसे तो डेल्टा में कई छोटी बडी नदियां अपना जल बंगाल की खाड़ी में प्रवाहित करती है, किंतु मुख्यता दो ही नदिया है जिनके मिलने से इस बड़े डेल्टा का निर्माण होता है। गंगा और ब्रम्हपुत्र नदी डेल्टा के उत्तरी क्षेत्र में आपस में मिलने के बाद कई धाराओ में बट जाती है,
गंगा नदी को बंगाल में मेघना के नाम से पुकारा जाता है, मेघना और ब्रम्हपुत्र नदी मिलकर बंगाल की खाड़ी में इस विशालकाय डेल्टा का निर्माण करती है।

सुंदरवन डेल्टा की विशेषताएं :-

1) विश्व का सबसे बड़ा नदी डेल्टा है।

2) दो देशों के बीच (भारत और बांग्लादेश) फैला हुआ है।

3) सुंदरवन डेल्टा विशिष्ट जैव विविधता वाला क्षेत्र है।

4) डेल्टा को यूनेस्को द्वारा विश्व धरोहर स्थल में सम्मिलित किया गया है।

5) वर्ष 1984 में सुंदरबन को राष्ट्रीय उद्यान घोषित करके सरकार द्वारा संरक्षित किया जा रहा है।

6) इस डेल्टा में सुंदरी के वृक्ष और वन पाए जाते हैं जो खारे पानी के अनुकूल है।

7) सुंदरबन डेल्टा में 107 दीप है और इनकी संख्या घटती बढ़ती रहती है।

8) सुंदरबन डेल्टा का लगभग 60% भाग दल दलों से घिरा हुआ है।

9) सुंदरबन डेल्टा की भूमि अत्यंत उपजाऊ है जिसमें धान और जूट की खेती की जाती है।

10) सुंदरबन डेल्टा का नाम वहां पाए जाने वाले मैंग्रोव के वन जिन्हें सुंदरी कहा जाता है से मिला है।

सुंदरबन डेल्टा में जैव विविधता :-

सुंदरवन डेल्टा विशिष्ट जैव विविधता वाला क्षेत्र है, जहां जीव जंतु और वनस्पतियों की विविधता विश्व के अन्य किसी भी भाग में नहीं देखी जा सकती।
इस जैव विविधता में मैंग्रोव के वनों का विशिष्ट योगदान है, यह वन संपूर्ण डेल्टा में झाड़ियों की तरह फैले हुए हैं, जिनको पार कर पाना असंभव ही है। लगभग 2500 जीव जंतुओं की प्रजातियां इस डेल्टा क्षेत्र में पाई जाती है। जिनमें खारे पानी का मगरमच्छ, अजगर और आकार में छोटे और छरहरे सुंदरबन टाइगर प्रमुख है।
डेल्टा क्षेत्र में सुंदरी के अलावा निम्न सदाबहार वृक्ष पाए जाते हैं गोरात, आमलोपी, चार, तरमजा देवा आदि।

सुंदरबन डेल्टा का क्षेत्रफल/ फैलाव :-

दो देशों के मध्य फैले इस डेल्टा का संपूर्ण क्षेत्रफल लगभग 10100 वर्ग किलोमीटर में है। इसके संपूर्ण क्षेत्रफल का लगभग 3/5 भाग यानी 6000 वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल बांग्लादेश में स्थित है। वही 2/5 भाग अर्थात 4100 वर्ग किलोमीटर का क्षेत्र भारत में फैला हुआ है।

सुंदरबन डेल्टा

सुंदरबन राष्ट्रीय उद्यान और विश्व धरोहर :-

सुंदरबन डेल्टा के विशिष्ट प्राकृतिक पर्यावरण का संरक्षण करने के लिए भारत सरकार ने मई 1984 में इसे राष्ट्रीय उद्यान का दर्जा दिया था।
यहां बंगाल के रॉयल टाइगर का निवास स्थान है, यह टाइगर देश के अन्य भागों में पाए जाने वाले बाघो से अलग है। इन टाइगर में अधिक आक्रामकता देखी गई है ।देश के अन्य भागों में पाए जाने वाले टाइगर से इसका आकार छोटा शरीर हल्का और छरहरा होता है।
इसके अलावा सैकड़ों प्रजाति के सरीसृप, पक्षी और जलीय जीवों का संरक्षण राष्ट्रीय उद्यान के माध्यम से किया जा रहा है।
विश्व धरोहर सूची में यूनेस्को ने सुंदरबन को सम्मिलित किया है, भारतीय क्षेत्र के रामसर साइट को विश्व धरोहर सूची के अनुरूप संरक्षित किया जा रहा है।

सुंदरबन डेल्टा का आर्थिक महत्व :-

डेल्टा का क्षेत्र नवीन मृदा का क्षेत्र है, जहां नदियां नई मिट्टी की परत प्रत्येक वर्ष चढ़ाती जाती हैं ।पानी की अधिकता और उपजाऊ जमीन के कारण इस क्षेत्र में धान की खेती बड़े पैमाने पर होती है, लेकिन यह क्षेत्र इस डेल्टा के उत्तरी मुख्य भूभाग से जुड़ा हुआ है।
इसके अलावा विश्व में सर्वाधिक जूट का उत्पादन इसी क्षेत्र में भारत और बांग्लादेश करते हैं।
चावल के अलावा जिन क्षेत्रों तक नमकीन पानी नहीं पहुंचता है वहां गन्ना और सुपारी की भी खेती की जाती है, इसके अलावा मीठे और खारे पानी की मछलियों का व्यापारिक उत्पादन भी इस क्षेत्र में हो रहा है।

1 thought on “सुंदरबन डेल्टा । सुंदरबन डेल्टा स्थिति ,नदियां, क्षेत्रफल,आकार, आर्थिक महत्व।”

Leave a Comment